Welcome, visitor! [ Register | LoginRSS Feed

Directory Listing & Advertisement Inquiry :
| Call : +91 - 9504889991, 9162231021, 9880027443
| Email : info@onlinebihar.com
Post an Ad
Comments Off on बेगूसराय के बीहट में लड़कियों की हु-तू-तू

बेगूसराय के बीहट में लड़कियों की हु-तू-तू

| Begusarai, News | March 24, 2015

  • 22 मार्च 2015
बिहार के बेगूसराय के बीहट में कबड्डी का खेल

बिहार के बेगूसराय के बीहट गांव की सुबह ही कबड्डी के हु तू तू से शुरू होती है. लड़कियां शॉर्ट्स पहनकर अपनी विरोधी टीम पर दांव आजमाती हैं.

जांघों पर थाप देकर जब वो खुद में उत्साह भरती हैं तो उससे निकलने वाली आवाज़ बिहार के सामंती समाज को चुनौती देती लगती है.

बीहट गांव की आबोहवा में कबड्डी रचती बसती है. बिहार के विभाजन के बाद से ही राज्य टीम में हर साल बीहट गांव के दो से तीन खिलाड़ी रहते हैं.

पढ़ें विस्तार से

बिहार के बेगूसराय के बीहट में कबड्डी का खेल

और ये संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. साल 2014 की बात करें तो सब जूनियर, जूनियर और सीनियर राज्य स्तरीय टीम में यहां के नौ लड़के और 13 लड़कियां थीं.

आलम ये है कि बीते नौ साल से सब जूनियर और जूनियर स्तर की स्टेट चैंपियनशिप पर बीहट की बदौलत बेगूसराय का कब्जा है.

यही वजह है कि बीहट को अब कबड्डी की नर्सरी कहा जाने लगा है. इस कबड्डी की नर्सरी की एक पौध रेमी है.

अखबार में फोटो

बिहार के बेगूसराय के बीहट में कबड्डी का खेल

रेमी राष्ट्रीय स्तर पर कबड्डी खेलती है और एशियाड के कैम्प में उनका चुनाव हो चुका है.

रेमी बताती है, “2005 में जब खेलना शुरू किया तो शॉर्ट्स पहनने पर ताने मिलते थे. खुली जांघों को देखकर लड़कियां कहती थीं कि पेपर लपेट लो. पापा को भी दो साल तक ये पता था कि मैं सिलाई सीखने जाती हूं लेकिन एक दिनअखबार में फोटो निकला तो बात घर में खुल गई.”

किसान परिवार

श्याम नंदन सिंह उर्फ पन्ना लाल
अंतरराष्ट्रीय रेफरी पन्ना लाल

बीहट में फिलहाल कबड्डी सिखाने की बागडोर श्याम सिंह उर्फ पन्ना लाल ने संभाल रखी है जो अंतरराष्ट्रीय रेफरी हैं.

पन्ना लाल बताते हैं, “70 के दशक से ही यहां लड़के–लड़कियां कबड्डी खेलते हैं. 80 के दशक में ही यहां के सुनील सिंह ने नैशनल खेला और लड़कियों में विभा कुमारी ने.”

दिलचस्प है कि कबड्डी से जुड़े ज्यादातर खिलाड़ी किसान परिवार के हैं और एक खास अगड़ी जाति से आते हैं. पिछड़ी जाति से आने वाले खिलाड़ियों की संख्या बेहद कम है.

नैशनल खेल

बिहार के बेगूसराय के बीहट में कबड्डी का खेल

सरिता उनमें से एक है. सातवीं में पढ़ने वाली सरिता की पांच बहनों की शादी 15 साल में ही कर दी गई लेकिन सरिता की शादी करने से उसके पिता ने इंकार कर दिया.

वजह बताते हुए सरिता कहती हैं, “मेरे घर के बगल में एक देवंती दीदी थी जिन्हें कबड्डी के जरिए ही सचिवालय में नौकरी लगी. जब ये बात पापा को पता चली तो उन्होंने मुझे कबड्डी सीखने को कहा. मैं तीन बार नैशनल खेल चुकी हूं और कबड्डी खेलकर नौकरी में जाउंगी.”

अनुशासन के साथ

बिहार के बेगूसराय के बीहट में कबड्डी का खेल

बीहट की तरह ही बरौनी में भी ये खेल लड़कियां बड़े अनुशासन के साथ खेलती हैं. भक्तियोग पुस्तकालय के कैम्पस (खेलगांव) में रोजाना 30 लड़कियां सुबह शाम प्रैक्टिस करती हैं.

इन लड़कियों में से रीति और नीतू नैशनल खेल चुकी हैं. रीति की बड़ी बहन प्रीति ने भी 16 बार नैशनल खेला. लेकिन शादी के बाद प्रीति कबड्डी ग्रांउड पर वापस नहीं लौटीं.

आर्थिक मदद

परमानंद
बेगूसराय ज़िला कबड्डी संघ के सहसचिव परमानंद.

रीति इस मुश्किल के बारे में बताती हैं, “हम सब गरीब परिवार से आते हैं. कबड्डी खेलकर भी जब कुछ नहीं मिलता तो घर वाले परेशान हो जाते हैं. वो ताने देते हैं कि हॉफ पैंट पहनकर नौकरी नहीं मिलेगी, उल्टे बदनामी हाथ लगेगी.”

हालांकि कबड्डी के लिए आधारभूत संरचना की बात करें तो इन गांवों में हर तरफ इसका अभाव है. यहां ना तो स्टेडियम है और ना ही कबड्डी खेलने के लिए मैट.

बिहार के बेगूसराय के बीहट में कबड्डी का खेल

वामपंथियों के गढ़ रहे इस इलाके में कबड्डी तो फल फूल रही है लेकिन उसे आगे बढ़ने के लिए आर्थिक मदद चाहिए.

जैसा कि बेगूसराय ज़िला कबड्डी संघ के सहसचिव परमानंद कहते है, “12 लड़कियां कबड्डी सीखने के लिए इस सत्र में कह चुकी हैं लेकिन हमारे पास जब उनकी जर्सी के पैसे हों तब तो हम उनकी भर्ती करें.”

 

Article Reference:

1.http://www.bbc.co.uk/hindi/india/2015/03/150318_kabaddi_sports_bihar_begusarai_vr#share-tools

 

Sponsored Links